फेस वैल्यू का मतलब क्या होता है 2022| What is Face Value in Hindi

 दोस्तों, आज के इस लेख में हम आपको बताएँगे की face value क्या है, face value क्या होता है, what is face value in hindi, फेस वैल्यू कैसे निकालते हैं आदि. जो नय ट्रेडर होते है उनको face value के बारे में कुछ नहीं पता होता है.

Face value क्या होता है? What is Face Value in Hindi

सायद आपका ना पता हो की face value को nominal value के नाम से भी जानते है. फेस वैल्य शेयर्स के share certificate में मेंशन रहता है. मार्किट में जो भी नई कंपनी आती है वह स्टॉक मार्किट में पैसा उठाना चाहती है.

वह कंपनी को शेयर मार्किट में लिस्टेड होने के लिए कंपनी की लगत को शेयर में बदलना होता है. जैसे की एक ABC कंपनी है जिसकी लागत 1000 रुपय है. और कंपनी उस लागत को 100 शेयर में परिवर्तन करना चाहती है, तो इस हिसाब से एक शेयर की face value 10 रुपय निकलता है जिसे हम face value कहते है.

IPO लाने से पहले शेयर उस कंपनी के सभी शेयर कंपनी के प्रमोटर के पास होते है और फिर जब कंपनी आईपीओ लाती है तबभी कुछ शेयर को मार्किट में issue करती है. जिससे जो भी प्रतेक शेयर की कीमत होती है उसे हम market value कहते है लेकिन शेयर की कीमत face value से अलग होती है.

इसके बाद में …

 PREMIUM VALUE और DISCOUNTED VALUE दोनों में क्या अंतर है?

IPO के बीच में उस शेयर की कीमत यानि मार्किट वैल्यू यदि उस शेयर की face value से ज्यादा है तो उसे हम उस शेयर की कीमत को PREMIUM VALUE कहते है वही दूसरी तरफ यदि उस शेयर की market value यदि face value से कम है तो उसको DISCOUNTED VALUE कहते है.

यदि कोई ABC कंपनी है वह अपने बिज़नस को आगे बढ़ाने के लिए स्टॉक मार्किट में आ रही है और उसे मार्केट से 5 करोड़ रुपय इकठ्ठे कर रही है तो वह कंपनी 10 रुपय प्रति शेयर face value के हिसाब से 50 लाख शेयर को मार्किट में issue करेगी.

मान लीजिये यदि जब कोई SBI का स्टॉक खरीद रहा है जिसका market price 310 रुपय चल रही है और इस शेयर की face value 1 रुपय है तो यदि कोई SBI का शेयर खरीदता है तो उसको कंपनी में असली निवेश एक रुपय माना जायगा क्योकि 309 रुपय शेयर का premium price होगा.

Note : आप किसी भी स्टॉक को face value के कीमत पर नहीं खरीद सकते क्योकि ये केवल शेयर face value है.  जब कंपनी IPO लाती है तो शेयर की कीमत कंपनी Investment Banker के साथ मिलकर तय करती है.What is Face Value in Hindi

Market Value और Face Value में क्या अंतर है ?

अब हम समझेंगे की मार्किट वैल्यू और face value में क्या अंतर होता है. मार्किट वैल्यू वर्तमान में चल रही कीमत को दर्शाता है. शेयर की कीमत डिमांड और सप्लाई के हिसाब से कम ज्यादा होती रहती है. शेयर की अधिक डिमांड होने के कारण शेयर की कीमत बढ़ जाती है जिससे मार्किट down हो जाता है.

इसी तरह से शेयर की कम डिमांड होने के कारण शेयर की कीमत कम हो जाती है जिससे मार्किट down हो जाता है. शेयर की मार्किट वैल्यू डिमांड और सप्लाई के साथ-साथ घटती बढती रहती है. लेकिन face value डिमांड और सप्लाई से कोई फर्क या बदलाव नहीं होता ये fixed रहती है. Face value तभी बदलेगी जब कंपनी stock split के प्रोसेस को फॉलो करती है.

Face Value से निवेशक को क्या फायदा होता है?

Face value का शेयर मार्किट में अधिक महत्व नही है लेकिन जब वह कंपनी इन्वेस्टर को डिविडेंड देती है तो उसके लिए फेस वैल्यू की जरूरत पड़ती है और डिविडेंड देने के लिए कंपनी खुद फैसला लेती है. यह भी जरुरी नहीं है की कंपनी डिविडेंड कब तक दे या ना दे.

Leave a comment