What is Stock Market in Hindi 2022 | Stock Market और Share Market में क्या अंतर है?

हेलो दोस्तों, आज के इस लेख में stock market के बारे में अच्छी तरह से जानेंगे. यदि आप इस लेख को पूरा पढ़ते है तो आपको किसी और yotube video या website पर जाने की जरूरत नहीं पड़ेगी. अब हम सुरु करते है की stock market kya hai है.

Stock Market और share market में क्या अंतर है?

इन share market और stock market दोनों में कोई भी अंतर नहीं है यह दोनों एक ही कार्य करते है. share मार्किट एक ऐसा खजाना है जहाँ पर आप अपने पैसों को इन्वेस्ट करके अच्छी कमाई कर सकते है. इस प्रकार की मार्किट हमारे देश की Economy, RBI, Global signals आदि नीतियों पर निर्भर है. Share market में अलग-अलग कंपनियों के नाम से शेयर्स होते है.

जब भी कोई नया व्यक्ति stock market में निवेश करता है तो उसे सुरुआती में बहुत नुक्सान होता है और कई समस्याओं का सामना करना पड़ता है. इसी प्रकार इस फील्ड में अनुभव के साथ ही अच्छी कमाई की जा सकती है. जब तक स्टॉक मार्किट के बारे में पूरी तरह से समझ नहीं लिया जाता है तब तक आपको नुक्सान ज्यादा और फायदा कम ही होगा.

Binomo App से पैसे कैसे कमाए?

What is stock market in Hindi / Stock market का क्या मतलब है?

Stock Market का क्या मतलब है – स्टॉक मार्किट का सीधा सा मतलब है किसी भी चीज को जमा करना और उसे काफी दिनों बाद बेचने को stock मार्किट कहते है इसमें हमको कंपनियों के shares को खरीदना और बेचना होता है. इसमें आप आप काफी पैसा कमा और गवा भी सकते है यदि आप इसके बारे में पूरी तरह से सिख कर पैसा इन्वेस्ट करके मुनाफा प्राप्त कर सकते है और बिना सिखे इन पैसों को गवा सकते है.

Share/Stock market में कंपनी के हिस्सेदार कैसे बनते है?

यदि आप किसी भी कंपनी के shares खरीद लेते है तो ऐसे में आप कंपनी के हिस्सेदार बन जाते है. कंपनी के shares खरीदने पर उस कंपनी में कुछ प्रतिशत आप मालिक बन जाते है. जिससे जब भी वह कंपनी भविष्य में अच्छे से grow करेगी ठीक उसी तरह उसमे आपकी भी अच्छी कमाई होगी और कंपनी घाटे में चली गई तो इसमे आपका पैसा भी डूब जाता है.

Stock Market में share के प्राइस बढ़ते और घटते रहते है आपको हमने इस लेख में पूरी जानकारी दी है की What is stock market in Hindi.

Stock Market में कितने सेक्टर होते है?

 ऑयल, रियल इस्टेट, कंज्यूमर गुड्स, बैंकिंग, स्टील, मेटल, पावर यह फिल्ड है जहाँ पर आप निवेश कर सकते है. जब भी आप किसी कंपनी के shares ख़रीदे तो उससे पहले आपको उस कंपनी के बारे में अच्छी तरह से जानना होगा की उस कंपनी की बैलेंस सीट, टॉर्नओवर, पेड-अप कैपिटल, बुक बिल्डिंग प्रोसेस, प्राइस टू बुक वैल्यू, ईपीएस,  नेट-प्रॉफिट,  ऑपरेटिंग-प्रॉफिट, प्रॉफिट आदि चीजे देखना बहुत जरुरी होता है.

हमने आपको ऊपर बताया है की निवेश करने के लिए बहुत से फिल्ड है जहाँ आप आसानी से निवेश कर सकते है. स्टॉक मार्किट में यह समझना बहुत जरुरी होता है की ऐसी कौनसी कंपनी है जिसके share खरीदने पर भविष्य में अच्छा मुनाफा मिल सके. यह बता पाना कितना मुश्किल है. यदि अच्छी कंपनी को चुनते है तो ही प्रॉफिट होगा.

इन्वेस्ट कैसे करे?

What is stock market in hindiजब भी कोई व्यक्ति stock market में इन्वेस्ट करने के बारे में सोचता है तो सबसे पहले उसके मन में (इन्वेस्ट कैसे करे) सवाल आता है. सबसे पहले यह देखना है कि आपको कितने दिनों में पैसों की जरूरत है. उसी हिसाब से कंपनी के shares को कम समय या ज्यादा समय के लिए चुनना होता है. आप अनेक कंपनियो के share खरीद सकते है.

डीमैट अकाउंट की जरूरत है?

स्टॉक मार्किट में निवेश करने के लिए सबसे जरुरी डीमेट अकाउंट की जरुरत पड़ती है. यह एक ऐसा account है जिसमे आपके दोवारा कंपनी के ख़रीदे हुए shares को सुरक्षित रखने के लिए एलेक्ट्रेनिक सुविधा दी जाती है. यह इस तरह काम करता है जिस तरह से सेविंग बैंक अकाउंट. Demat account का एक बहुत बढ़ा बेनिफिट है की shares की चोरी नहीं होती है.

Demat Account भी 3 तरह के होते है – 1. Regular demat account 2. Repatriable demat account 3. Non-repatriable demat account

कुछ वर्षो पहले share की फिजिकल ट्रेडिंग की जाती थी share का सीधा ट्रान्सफर किये जाते थे. अब सब कुछ बदल गया है.

निवेश की अवधि

निवेशक निवेश दो तरह की अवधि में अपना सकते है एक लम्बी और छोटी अवधि के लिए. छोटी अवधि में आप कंपनी के shares खरीद कर 3 – 6 महीने तक अपने पास रख सकते है. जबकि लम्बी अवधि में shares को 6 महीने से आगे तक अपने पास रख सकते है.

ज्यादातर एक्सपर्ट इन्वेस्टर नय इन्वेस्टर को लम्बी अवधि के लिए इन्वेस्ट करने के लिए सलह देते है क्योकि इस अवधि में ज्यादा मुनाफा और रिस्क कम होता है लेकिन छोटी अवधि में रिस्क ज्यादा और मुनाफा भी कम ही होता है. आज के टाइम में ट्रेडिंग इलेक्ट्रॉनिक तरीके से की जाती है. इस तरह की प्रक्रिया मुम्बई स्टॉक एक्सचेंज, नेशनल स्टॉक एक्सचेंज के जरिए होती है.

Leave a comment