शेयर मार्केट में ROE क्या होता है | ROE Meaning in Hindi

हेलो दोस्तों, आज के इस लेख में हमने आपको ROE के बारे में समझाने की कोशिश की है की ROE क्या होता है, शेयर मार्किट में ROE क्या होता है, ROE फुल फॉर्म, Return on Equity का क्या उपयोग होता है.

ROE Full Form in Share Market हिंदी में

ROE full form in share market “Return on Equity” है.

ROE क्या हैं (ROE Meaning In Hindi)

ROE फुल फॉर्म “Return on Equity” ये Financial ratio है. इससे कंपनी की कमाई  देखने को मिलती है. सधारण भाषा में कहाँ जाए तो Return on Equity का मतलब होता है की वह कंपनी अपने शेयरहोल्डर को कितना ज्यादा मुनाफा कमा के दे रही है.

Example –

एक ABC कंपनी है जिसका ROE 12% है तो इसका मतलब हुआ, की कंपनी अपने शेयरहोल्डर प्रतेक 100 की हिस्सेदारी पर 12 रुपय फायदा ले रही है. जितना ज्यादा Return on Equity होगा उतना ही अच्छा होता है, क्योकि इससे ये पता चलता है की कंपनी में शेयरहोल्डर की इन्वेस्ट किये गय पैसो का ठीक से उपयोग हो रहा है.

एक निवेशक के लिए कंपनी का ROE कम होना अच्छा संकेत नहीं होता है. आगे हम पूरी जानकारी समझेंगे, की ROE कितना होना चाहिए.

Note : Return on Equity हमेशा प्रतिशत में निकलता है.

Return on Equity Formula

ROE = Net Income/shareholder’s Equity

पहले हम Net Income को मतलब समझते है, Net Income वह है जो कंपनी के सभी प्रकार के टैक्स, ब्याज और प्रोडक्ट लागत से बची हुई कमाई को Net Income कहते है. किसी भी कंपनी का Income statement आसानी से google पर tools की मदद से देख सकते है.

अब हम Shareholders equity का मतलब समझते है, Shareholders equity वह Net worth है जो total assets में से total liabilities (कर्ज) को घटाने के बाद मिलती है. यह जानकारी आपको कंपनी की balance sheet में आसानी से मिल जाएगी.

ध्यान रह, यदि  फाइनेंशियल ईयर के सुरु में दी गई shareholders equity और वर्ष के अखिर में दी गई shareholders equity के बिच में यदि अधिक variations रह तो आप दोनों का average (औसत) ले सकतें हैं.

वरना, आप फाइनेंशियल ईयर के अखिर में दी हुई Total equity का उपयोग कर सकतें हैं.

Example- 1.

इसे हम उद्धरण की मदद से समझते हैं –

मान लीजिये एक ABC कंपनी हैं , जिसके वर्ष 2018 में 26,000 रूपए का मुनाफा कमाया था, इसके साथ-साथ फाइनेंशियल ईयर के बीच और उसके अंत में shareholders equity हैं , 60,000 और 8,00,000

और इस तरह , Average shareholders equity कितना हुआ हुआ ,

Average Shareholder’s equity =  ( 80,000 + ,10,0000 ) / 2

=  90,000

तो , ROE हुआ,

Return on Equity =  (26,000 / 90,000)

=  28%

मैं आपको बता दूँ की ABC कंपनी का ROE 28% हैं. इसका साफ मतलब निकलता है की , कंपनी प्रतेक 100 रूपए की equity के पीछे 28 रूपए की कमाई कर रही है जो काफी बेहतर संकेत होता है.

एक अच्छी कंपनी का Return on Equity (ROE) कितना होना चाहिए?

यदि किसी भी कंपनी में लम्बे समय के लिए इन्वेस्ट करना है तो उस कंपनी का ROE 15% से कम नहीं होना चाहिए. इतना ही नहीं बल्कि आपको उस कंपनी के 5 वर्ष पहले का भी देखना जरुरी है और पिछले 5 वर्ष का ROE कम नहीं होना चाहिए.

यदि उस कंपनी का साल का साल बढता हुआ दिखाई देता है तो वह लम्बे समय के लिए इन्वेस्ट करने के लिए बहुत बढ़िया है. सिर्फ अच्छे ROE को देखकर कंपनी को अच्छा नहीं बता सकते है क्योकि कंपनी के कर्जा (DEBT) लेने से Return on Equity बढ़ जाता है. और ऐसे में कंपनी को समझने में हम गलती कर सकते है.

Example- 2.

मान लीजिये की AB Ltd. और DC Ltd. 2 कंपनियां है

और दोनों कंपनियों का net profit 15cr है और

दोनों कंपनियों के total asset value 100cr है

 

AB Ltd. = Average Shareholders Equity = 100cr

Net Profit/ Average Shareholders Equity

= 15/100cr = 15%

 

DC Ltd. =

DEBT (कर्जा) = 70cr

Average Shareholders Equity = 100cr

Net Profit/ Average Shareholders Equity

15/30 = 50%

ध्यान दें –

आपने देखा की AB Ltd. का ROE 15% और DC Ltd. का ROE 50% है. यदि Return on Equity को देखकर बात की जाए तो हम बोलेंगे की AB Ltd. के मुकाबले DC Ltd. कंपनी अच्छी है. सच क्या है?

जैसे की अब आपको दिख रहा है की AB Ltd. का ROE 15% है लेकिन कोई DEBT (कर्जा) नहीं है और फाइनेंशियल मजबूत है.

जैसे की DC Ltd. का ROE 50% है लेकिन उसके पास उसने अपने 30cr की equity पर 70cr रूपए का DEBT ले चुके है जो भविष्य में कंपनी के काफी बड़ी समस्या बन सकती है वह फाइनेंशियल कमजोर है.

वही AB Ltd. का ROE 15% होते हुए भी काफी फाइनेंशियल मजबूत है. इसलिए हमें REO के साथ-साथ DEBT को भी देखना चाहिए. बहुत सी इस तरह की कंपनियां है जो DEBT लेकर ROE को बड़ा लेती है.

Return on Equity को जानना कितना जरुरी है?

दोस्तों, Return on Equity कंपनी के एनालिसिस के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण ratio है. हमें किसी भी कंपनी में निवेश करने से पहले current ROE के साथ – साथ पिछले 5 वर्ष से लेकर 10 वर्ष तक के Average ROE को देखना चाहिए.
यह सभी जानकारी कंपनी के annual report में देख सकते है.

हमें किस तरह की कंपनी में निवेश करना चाहिए?

स्टॉक मार्किट में अच्छा मुनाफा तभी होता है जब हम जिन कंपनियों में निवेश करते है वह कंपनियां financially strong हो. और वो प्रतेक वर्ष अपना मुनाफा बढ़ाती जाए. इस तरह की कंपनी को पहचानने के लिए return on equity बहुत मदद करता है.

इन्हें भी पढ़े – 

Sharing Is Caring:

Leave a comment