कम पैसों में ऋषिकेश में कहां घूमने 2022| Rishikesh Me Ghumne Ki jagah

हेल्लो दोस्तों, आज के इस लेख में हमने आपको बताया है की Rishikesh Me Ghumne Ki Jagah, Rishikesh Ghumne Ki Jagah, ऋषिकेश में देखने के लिए क्या क्या है, ऋषिकेश क्यों प्रसिद्ध है, ऋषिकेश कौन से जिले में आता है आदि.

ऋषिकेश उतराखंड राज्य के देहरादून जिले में बहुत ही फेमस पर्यटक स्थल है.  ये उत्तर भारत के तलहटी में है. जिसे गढ़वाल हिमालय और प्रवेश द्वारा के नाम से भी जाना जाता है. आपको जानकर ये हैरानी होगी की ये  विश्व योग के  राजधानी के रूप में प्रख्यात है. अगर आप दोस्तों  ऋषिकेश घुमने का प्लान बना रहे है तो आप इन खूबसूरत जगहों के बारे में जरुर जाने .

ऋषिकेश में त्रिवेणी घाट

पवित्र गंगा नदी के तट पर बनी ये घाट  ऋषिकेश की सबसे बड़ी घाटो में से एक है. त्रिवेणी घाट पर प्रतेक महीने आरती होती है .त्रिवेणी घाट पुरानी कथाओ में एक बहुत ही महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है. आपको बता दे की महाभारत और रामायण में भी इसका उल्लेख किया गया है. हिन्दू पुरानी कथाओ को  माने तो ऐसा कहा जाता है की अगर आप इस गंगा नदी में दुबकी लगा लेते है तो आपका सारा पाप धुल जाता है.

अगर आप यहाँ पर किसी मछलियों को तैरते हुए देख लेते है तो आप उनके लिए यहाँ खाना भी डाल सकते है. इसे आपको पुन्य मिलता है. अगर आप Rishikesh Me Ghumne Ki Jagah खोज रहे है तो आप इस जगह पर जरुर आये.

शिवपुरी – Shivpuri In Rishikesh

ऋषिकेश में अगर आपने कभी रिवर राफ्टिंग नहीं की तो मतलब आपका ऋषिकेश टूर अधुरा रह जाएगा. आपको बता दू की ऋषिकेश के सभी रोमांचक जगहों में से एक है. शिव पूरी अपने रिवर राफ्टिंग के साथ साथ यहाँ आये हुआ  घने जंगलो के साथ-साथ पहाड़ी नजरो के लिए भी बहुत फेमस है .

अगर आपने Rishikesh Me Ghumne ki Jagah में शिवपुरी को चुना है तो आपको यहाँ रॉक क्लैबिंग, रिवर राफ्टिंग, क्लिफ जुम्पिंग, एक्टिविटी ऐसे आसानी से हाथ साफ कर सकते है. ये शिवपुरी  जंगलो की शैर करने, जंगलो में ट्रैकिंग, शिवपुरी बाच कैम्पिंग जैसी जगहों के लिए बहुत ही फेमस माना जाता है.

कुंजापुरी मंदिर ट्रैकिंग – Kunjapuri Mandir In Rishikesh

कुंजापुरी मंदिर 1645  मीटर की ऊचाई पर है. जहा से आप हिमालयो की चोटिया और साऊथ ऋषिकेश हरिद्वार के अद्भुत दृश्यों को देखने का अवसर मिलता है. कुंजापुरी मंदिर तर्कक के लिए ऋषिकेश में बहुत ही फेमस है. आपको बता दे नरेन्द्र नगर से लगभग 6 किलोमीटर की दुरी पर गंगोत्री से यात्रा करते हुए सड़क जो ममंदिर की ओर जाती है.

यहाँ के मंदिर को दुरी 5 किलोमीटर की दुरी तक रह जाती है. पुरे साल में नवरात्रों अप्रैल और अक्टूबर में हजारो भक्तो की भीड़ देखने को मिलती है . Rishikesh Me Ghumne ki Jagah

ऋषिकेश में नीर गढ़ झरना – (Neer Garh waterfall In Rishikesh )

नीरगढ़ झरना ठन्डे पानी का एक सुन्दर धरा है. जो हरे भरे जंगलो से  बिच के चट्टानों  से बहती है. अगर आपको वॉटरफॉल तक पहुचना है तो जंगल से होते हुए करीब 1 किलोमीटर की दुरी तय करनी होती है. और आपको कई चट्टानों से निचे उतरना पड़ता है और इसके साथ-साथ जंगलो के चारो तरफ घूमते हुए हरे भरे वन , पत्तिया, वनस्पतियों और कई सारे जीवो की विविधता हो आप देख सकते है.

इस घटी में आकर आपको बहुत ही  अनोखा दृश्यों को देखने का अवसर मिलेगा. अगर आप कभी भी ऋषिकेश घुमने आये तो इस जगह पर जरुर आये. क्युकी आपको यहाँ पर कुछ मनमोहक दृश्यों को देखने का आनद उठा सकते है. Rishikesh Me Ghumne ki Jagah

नीलकंठ महादेव मंदिर –Neel Kanth Mahadev Mandir

Nilkanth Mahadev Mandir – नीलकंठ महादेव मंदिर ऋषिकेश के 10 किलोमीटर पर बना हुआ है. नीलकंठ मंदिर जो शिव जी को नीलकंठ के रूप में समर्पित करता है. ये काफी मान्यता वाले मंदिरों के नाम से भी जाना जाता है . आपको बता दे की यहाँ  बहुत से लोग मन्नत लेकर आया करते है .

इस मंदिर की बनावट बाकि मंदिरों से काफी अलग देखने को मिलेगी. यहाँ आने का रास्ता बहुत ही हरियाली पूर्ण है. इस मंदिर को काफी सुन्दर तरीके से बनावट की गयी है .Rishikesh Me Ghumne ki Jagah

जुम्पिंग हाईट – Jumping Height

Rishikesh Me Ghumne ki Jagah- ऋषिकेश धार्मिक स्थलों के साथ साथ Advanture के लिए भी लोगो में बहुत ज्यादा लोक प्रिय रहा है .आपको बता दे की ऋषिकेश ने विश्व में अपनी एक अलग ही पहचान बना रखी है. अगर आपके मन में कुछ रोमांचक से साथ-साथ कुछ तूफानी करने की इक्छा हो रही है तो ये जगह आपके लिए है .

एक बार आप जम्पिंग हाइट में जरुर आये. दोस्तों आपको यहाँ लचीली रस्सी से बांधकर हजारो फीट की खाई में धकेल दिया जाता है. क्युकी यहाँ पर जिनका दिल कमजोर होता है वो लोग नहीं जाते है. क्युकी जुम्पिंग हाइट में साहस की जरुरत होती है दोस्तों ……

राम झूला ऋषिकेश – Ram Jhula Rishikesh

राम झूला ऋषिकेश के एक प्रमुख लैंडमार्क पर बनाया हुआ पूल है. ये जगह रेती के 3 किलोमीटर की दुरी पर है.ये पुल गंगा नदी के पूल पर बना हुआ है .ये पूल ऋषिकेश में आया हुआ लक्षमण पूल से भी बड़ा पूल है .ये पूल स्वर्ग आश्रम और विश्व आनंद आश्रम से जोड़ता है .इस पूल का निर्माण 1883 में किया गया था.

इया पूल के किनारे लक्ष्मण जी का एक बहुत ही पुराना मंदिर है. ये पूल स्वर्ग आश्रम और शिवानन्द आश्रम के बिच से बना हुआ है तो इसे शिवानन्द झुला भी कहते है. ये झूला बहुत ही अनोखा दिखाई देता  है. अगर इस झूले पर कोई इंसान चलता है तो ये खुला हिलते हुए दिखाई देता  है.

स्वर्ग आश्रम (Rishikesh Me Ghumne ki Jagah)

दोस्तों स्वर्ग आश्रम को स्वामी विसुधानंद की याद में बनवाया गया था.ये एक अत्याध्मिक आश्रम है. इस आश्रम का एक प्रख्यात नाम भी है. जिसे कलि कमली के नाम से भी जाना जाता है. क्युकी वो हमेश काले रंगों का ही कम्बल पहने रहते थे. राम झुला और लक्ष्मण झुला के बिच में बना ये आश्रम भारत का सबसे पुराना आश्रम है.

और दोस्तों ये आश्रम ऋषिकेश के पर्यटकों के स्थलों में से एक है. इस आश्रम से सूर्यास्त का नज़ारा देखने के किये लोग जुटते है. आपको बता दे की अगर आपको योग में रूचि है और आप यहाँ पर योग करना चाहते है तो आपको 300 रूपए को देकर योग और  ध्यान कर सकते है .

ऋषि कुंड –Rishikesh Me Dekhne Wali jagah

आप जानकार सोच में पड़ जायेंगे की ऋषि कुंड  एक  nature गर्म पानी का तालाब है. जिसे शहर में एक पवित्र जल का निकाय माना जाता है. यहाँ  की मान्यता के अनुसार ई ऋषिं पानी भरने के लिए आये थे. और आपको बता दे की स्थानीय लोगो  का ये भी कहना है की भगवान राम ने अपने बनवास के समय में  इस रिशिकुंद में स्नान किया था.

और दोस्तों इसी जगह पर गंगा और यमुना एक दुसरे से मिलती है. दोस्तों इस कुंड में स्नान करने से मन मनोबल होता है. इस कुंड में स्नान करना काफी सुकून भरा लगता है. इसी करना से शायद ऋषिकेश में आने वाले भक्त और पर्यटक एक बार इस कुंड में स्नान जरुर करके जाते है.Rishikesh Me Ghumne ki Jagah

दोस्तों आगर आप कभी इस कुंड में गए है तो हमें निचे कमेंट करे …..

बीटल्स आश्रम  – Rishikesh Me dekhne  wali jagah

इस आश्रम को महेश योगी के नाम  से जाना जाता है .1968 में बीटल्स द्वारा आश्रम का दौरा करने के बाद इस आश्रम का नाम बीटल्स रखा गया. ये आश्रम गंगा नदी के पास स्थित शांत वातावरण को दर्शाता है. इस शांत वातावरण मे लोग ध्यान लगाते है.

इसके अलवा नेचर की सैर, ट्रैकिंग और बर्थ वात्चिंग पर्यटकों के आकर्षण का केंद्र है. हमारे भारतीयों के लिए प्रवेश  फीस 150 रूपए और विदेशी यात्री के लिए 600 रूपए का टिकिट मिलता है. शांत इलाको में आपको घूमना पसंद है तो ये जगह आपके लिए बेहतर है. अगर आप इस जगह पर आना चाहे तो आ सकते है .

ऋषिकेश की यात्रा कैसे करे?

दोस्तों अगर आप ऋषिकेश की यात्रा करना चाहते है और यहाँ जाना चाहते है तो आपको हवाई अड्डा जली ग्रांट एअरपोर्ट  देहरादून में है. जो ऋषिकेश से 35  किलोमीटर की दूरी पर है. आप दिल्ली और लखनऊ से फ्लाइट पकड़कर यहाँ पहुच सकते है. यहाँ आपको टेक्सी और बस भी रेगुलर जाया करती है ऋषिकेश इसके साथ ही हरिद्वा, देहरादून और दिल्ली से भी जाया जा सकते है.

इस जगहों से ऋषिकेश के लिए सभी बसे जाया करती है. ऋषिकेश के पास में हरिद्वार स्टेशन है जो 25 किलोमीटर की दूरी  पर है. मुंबई, दिल्ली, कोलकाता, लखनऊ और बनारस जैसे रेलवे ट्रैक से जुड़ा हुआ है. Rishikesh Me Ghumne ki Jagah

आप जन शताब्दी एक्सेप्रेस, मसूरी एक्सेप्रेस, जैसे  अलग अलग ट्रेनों के माध्यम से हरिद्वार में पहुच कर आप वहा से बस या टेक्सी को पकड़कर आप ऋषि केश तक पहुच सकते है .

दोस्तों मैं अरुण कुमार आशा करता हु ये आर्टिकल आपको पसंद आया होगा, अगर पसंद आया हो तो अपने दोस्तों में शेयर करना न भूले क्युकी उनकी भी Rishikesh Me Ghumne ki Jagah के बारे में जान सके …….

लोगों के दोवारा पूछे गय सवाल –

Rishikesh Me Ghumne Wali Jagah, Rishikesh Me Ghumne Layak Jagah, Rishikesh M Ghumne Ki Jagah, Rishikesh Mein Ghumne Ki Jagah

इन्हें भी पढ़े –

उदयपुर में सबसे अच्छी जगह कौन सी है

मनाली में घूमने की जगह

उज्जैन में घूमने की जगह

मथुरा में घूमने की टॉप 10 जगह

इंडिया में घूमने के लिए बेहतरीन जगह है 

Leave a comment