Computer Memory in Hindi | स्टोरेज यूनिट क्या है

कंप्यूटर मेमोरी क्या होती है?

कंप्यूटर सिस्टम में Memory क्या होती है. कंप्यूटर में डाटा और सूचना को संरछित रखने के लिए Memory की आवश्यकता होती है. इनपुट उपकरण से और सी. पी. यू. द्वारा प्रोसेसर परिणाम को रखने के लिए भी मेमोरी आवश्यकता होती है. मेमोरी को दो भागो में बांटा गया है. 

1.प्राइमरी मेमोरी

2. सेकंडरी मेमोरी

प्राइमरी मेमोरी क्या है [Computer Memory in Hindi]

 यह “Computer Primary Memory in Hindi” प्राइमरी मेमोरी एक इन्टरनल मेमोरी है जिसे सी.पी.यू. के कन्ट्रोल यूनिट द्वारा सीधे ही पहुँचा सकते हैं । यह सूचना और डाटा को प्रोसेस और ए . एल.यू. द्वारा निर्देशित के लिए अस्थायी भण्डार या स्थान प्रदान करती है ।

 रोम कितने प्रकार के होते है?

रोम कई प्रकार के होते हैं, जैसे पी रोम, इपी रोम आदि । पी – रोम में सूचना प्रोग्रामर के इसे बनाते समय ही भरी जाती है । जिसे बाद में हटाया या बदला नहीं जा सकता है.  

EPROM [Erasable programmable Read Only Memory in Hindi]

यह भी पी रोम की भांति होती है, पर इसमें पराबैंगनी किरणों के द्वारा सूचना को बाद में भी हटाया या बदला जा सकता है ।

 कैस मेमोरी क्या है? 

यह एक छोटी तथा उच्च गति की स्मृति है जिसका उपयोग प्रोसेसिंग की गति बढ़ाने के लिए किया जाता है ।

सेकेण्डरी मेमोरी क्या होती है?

यह Secondary Storage Memory का प्रयोग स्थायी रुप से डाटा और सूचना के बड़े भाग को संरक्षित करने के लिए होता है । इस मेमोरी को एक्स्टर्नल या ऑक्जेलरी मेमोरी के नाम से जानते हैं । कुछ सेकण्डरी मेमोरी फ्लापी डिस्क , सीडी – रोम तथा हार्डडिस्क आदि हैं ।

स्टोरेज यूनिट क्या है? Storage Unit Kya Hai?

1 Nibble             =  4 bites 1 Byte                      =     8 bites
1  KB (kilo Byte)   = 1024 bytes 1 MB (Mega Byte)  =    1024 KB
1 KG (Giga Byte)  = 1024 MB
   

 इनपुट और आउटपुट उपकरणों में या अंतर है?

Input Device :- कुछ मुख्य इनपुट उपकरण निम्न है.

OCR क्या है (Optical Character Reader )

इस तकनीक का प्रयोग छपे हुए अक्षरों को सीधे – सीधे पढ़ने के लिए करते हैं तथा इसके द्वारा कम्प्यूटर में संरक्षित करने के पूर्व ही सही कोड में परिवर्तित करते हैं । इसका प्रयोग परीक्षा प्रश्नपत्र और फार्म की प्रमाणिकता के लिए भी कर सकते हैं ।

इसमें पढ़ने के लिए किसी विशेष स्याही की आवश्यकता नहीं होती बल्कि कई OCR फॉन्ट जैसे टाइपराइटर और कम्प्यूटर प्रिन्टेड अक्षर की पहचान के रुप में होती है । OCR सिस्टम की एक परिभाषा यह भी है कि यह हाथ द्वारा बने शब्द और संख्याओ को भी पहचान (पढ़) सकते हैं

MICR Full Information in Hindi 

इसका प्रयोग बैंकों में चेकों के नम्बर पढ़ने के लिए किया जाता है । प्रत्येक चेकों पर बैंक नम्बर, एकाउन्ट नम्बर और चेक नम्बर चेक के निचले हिस्से पर विशेष स्याही से अंकित होते हैं । यह स्याही आयरन आक्साइड के घोल से बनी होती है ।

 जब किसी को पेमेन्ट देने के लिए चेक का प्रयोग करते हैं । तब चेक के नीचे दाहिने कोने पर एमाउन्ट इसी स्याही से अंकित की जाती है । प्रत्येक चेक MICR मशीन में डाला जाता है जिससे चेक की सभी सूचनायें कम्प्यूटर पर प्रोसेस के लिए चली जाती हैं. 

Output Device क्या है ( Output Device )

 कुछ मुख्य आउटपुट निम्न दिये गये हैं.

 मॉनीटर ( Monitor ) क्या हैं?

 Monitor एक आवश्यक आउटपुट उपकरण है जिसे V.D.U. ( विजुअल डिस्प्ले यूनिट ) या C.R.T. स्क्रीन के नाम से भी जानते हैं. यह T.V. स्क्रीन की भाँति दिखाई देता है

 तथा इस पर शब्द और चित्र दिखाई पड़ते हैं । यह वो सभी कुछ दिखाता है जिसे हम की – बोर्ड द्वारा या प्रोग्राम के परिणाम तथा गणना द्वारा प्राप्त करते हैं ।

प्रिन्टर क्या है?

इस उपकरण का प्रयोग हार्डकापी बनाने के लिए करते हैं। किसी प्रकार का डाटा जैसे टेक्स्ट या चित्र जो कि मॉनीटर पर दिखाई दे रहा हो उसे पेपर पर प्रिन्ट करने के लिए प्रिन्टर का प्रयोग करते हैं । ये दो प्रकार के होते हैं.

( i ) इम्पैक्ट प्रिन्टर

 ( ii ) नान् – इम्पेक्ट प्रिन्टर

 इम्पैक्ट प्रिंटर क्या है?

इस प्रकार के प्रिन्टर में प्रिन्टर हेड और कागज के बीच सम्बन्ध होता है । इसमें कुछ पिनें होती है जो कि कार्बन या स्याही फीते पर अक्षरों के रुप में हिट करती हैं । जिससे फीते के पीछे लगे कागज पर प्रिन्ट होता है । इसमें डाटा के रुप प्रिन्ट होते हैं तथा इनकी गति कम होती है ।

 जैसे – डेजी ह्वील प्रिन्टर ( कैरेक्टर प्रिन्टर ) डॉट मैट्रिक्स प्रिन्टर , लाइन प्रिन्टर आदि ।

 नान इम्पेक्ट प्रिन्टर क्या है? 

 इस प्रिन्टर में पिन और फीते नहीं होते हैं तथा इनमें प्रिन्टर हेड और कागज के बीच कोई सम्पर्क नहीं होता है । इन प्रिन्टरों में तापीय रासायनिक इलेक्ट्रोस्टैटिक और इंकजेट तकनीक और रंगो के फुहारों का प्रयोग होता है ।

 इसमें लेजर किरणों का भी प्रयोग होता है । इन प्रिन्टरों की गुणवत्ता अच्छी होती है । जैसे- इंकजेक्ट प्रिन्टर, लेजर प्रिन्टर आदि. स्पीकर : – यह एक आउटपुट यन्त्र है । जिससे ध्वनि के रुप में आउटपुट प्राप्त होता है ।……..

Sharing Is Caring:

Leave a comment