B.Ed Course Details in Hindi | फीस | सैलरी | पात्रताए

बीएड कोर्स की पूरी जानकारी हिंदी में

B.Ed Course Details in Hindi– हर छात्र का अपना एक सपना होता हैं। कुछ किस क्षेत्र में जाना चाहते हैं तो कुछ किस में! काफी सारे छात्र टीचर बनने का सपना अपनी आखों में रखकर लग्न के साथ तैयारी कर रहे हैं। अगर आप टीचर बनना चाहते हो तो आपको दसवीं कक्षा तक वही पढ़ाई करनी होगी जो सब करते हैं। 11वीं कक्षा में उस स्ट्रीम को चुनना होगा जिसके क्षेत्र में आप टीचर बनना चाहते हो और उसके बाद आपको कोई ऐसा कोर्स करना होगा जो आपको टीचर बनने में मदद करें। टीचर बनने के लिए वर्तमान में जो कोर्स हमारे देश में सबसे लोकप्रिय है वह B.Ed है।

B.Ed का कोर्स करने वाले छात्र निजी व सरकारी संस्थानों में टीचर के लिए बेहतर माने जाते हैं। शिक्षक के रूप में सरकारी नौकरी प्राप्त करने में भी यह कोर्स काफी मदद करता है। अगर बारहवीं कक्षा के बाद या फिर ग्रेजुएशन के बाद B.Ed कोर्स करना चाहते हैं तो हमारे यह लेख आपके लिए काफी फायदेमंद साबित होने वाला है। इस लेख में हम आपको B.Ed कोर्स की पूरी जानकारी (B.Ed Course Details in Hindi) आसान भाषा में देने वाले हैं।

B.Ed Course Details in Hindi” इसलिए हम आपको ना केवल यह बताएंगे कि B.Ed कोर्स क्या है बल्कि बीएड कोर्स की फुल फॉर्म क्या हैं, बीएड कोर्स कितने साल का होता हैं, बीएड कोर्स के लिए पात्रता, बीएड कोर्स कैसे करे, बीएड कोर्स के लिए कितनी फीस लगती है, बीएड कोर्स करने के बाद कितनी सैलरी मिलती हैं आदि सभी सवालों का जवाब देंगे।

What is B.Ed Course in Hindi – B.Ed Full Form in Hindi 

कोर्स के बारे में अधिक जाने से पहले आपका यह जानना जरूरी है कि इस की फुल फॉर्म क्या है। अगर B.Ed कोर्स के फुल फॉर्म की बात की जाए तो वह Bachelor of Education (बैचलर ऑफ एजुकेशन) हैं। अगर कोर्स के साधारण हिंदी फूल फॉर्म की बात की जाए तो वह शिक्षा के स्नातक होगी।

What is B.Ed Course in Hindi “B.Ed Course Details in Hindi”

बीएड कोर्स वर्तमान में देश मे टीचर बनने के लिए किया जाने वाला सबसे लोकप्रिय कोर्स हैं। इंट्रेंज एग्जाम के माध्यम से इस कोर्स को बारहवीं कक्षा के बाद भी कैसे अन्य कोर्स के साथ जैसे कि बीए, बीएससी और बीकॉम के साथ किया जा सकता है लेकिन मुख्य रूप से यह कोर्स ग्रेजुएशन के बाद किया जाता है। अगर यह कोर्स 1 डिग्री प्रोग्राम यानी कि बीए बीएड, बीएससी बीएड और बीकॉम B.Ed में किया जाता है तो कोर्स की ड्यूरेशन बढ़ जाती हैं।

वैसे तो कोर्स को करने के पीछे अधिकतर छात्रों का मुख्य उद्देश्य टीचर बनना होता है लेकिन यह कोर्स अन्य कई परीक्षाओं की तैयारी के लिए भी किया जाता हैं। यह कोर्स मुख्य रूप से उन छात्रों के लिए तैयार किया गया है जो एजुकेशन शिक्षा के क्षेत्र में अपना करियर बनाना चाहते हैं। इस कोर्स को आप अगर डुएल डिग्री प्रोग्राम में करते हैं तो यह काफी वर्सेटाइल हो जाता है यानी कि अगर आप बैचलर ऑफ आर्ट्स के कोर्स के साथ ही से करेंगे तो आपको इसमें सब्जेक्ट चुनने का मौका मिलेगा

और आप अपनी रूचि के अनुसार सब्जेक्ट चेंज करनी है। इस कोर्स में आपको टीचर की स्किन प्रोवाइड करने पर ध्यान दिया जाता है और बताया जाता है कि आप कैसे किसी छात्र को पढ़ा सकते हैं और चीजों को आसानी से एक्सप्लेन कर सकते हैं। अधिकतर राज्यों में इसे 1 डिग्री प्रोग्राम के साथ करने के लिए एंट्रेंस एग्जाम देनी होती है जो राज्य स्तर पर आयोजित की जाती है। “B.Ed Course Details in Hindi”

B.Ed कोर्स कितने साल का होता है? (B.Ed Course Full Details in Hindi)

अगर आप ग्रेजुएशन के बाद या फिर बारहवीं कक्षा के बाद B.Ed कोर्स करने की सोच रहे हो तो आपको इस कोर्स की ड्यूरेशन के बारे में भी पता होना चाहिए। अगर आप ग्रेजुएशन करने के बाद B.Ed Course को करते हो तो यह कोर्स आपके लिए 2 साल का पड़ता है वहीं अगर आप डुएल डिग्री प्रोग्राम के अंतर्गत एंट्रेंस एग्जाम देकर इस कोर्स को करते हो तो यह कोर्स आपको 4 साल का पड़ता है। उदाहरण के तौर पर अगर आप बैचलर ऑफ आर्ट्स का कोर्स करें और उसके बाद बैचलर ऑफ एजुकेशन कोर्स करें तो आपको कुल 5 साल देने होंगे वही बैचलर ऑफ आर्ट्स + बैचलर ऑफ एजुकेशन कोर्स डुएल डिग्री प्रोग्राम के अंतर्गत करने में आपका एक साल बच जाएगा।

BEd कोर्स करने के लिए योग्यता – B.Ed Course Eligibilities in Hindi

बैचलर ऑफ एजुकेशन का कोर्स टीचर बनने के लिए एक प्रोफेशनल कोर्स है और इसे हर कोई छात्र नहीं कर सकता। इस कोर्स में एडमिशन लेने के लिए कुछ योग्यता पात्रताए की गई है जो इस प्रकार है:

  • अगर ग्रेजुएशन के बाद B.Ed कोर्स किया जा रहा है तो जो बैचलर कोर्स आपने किया है उसमें 50 से 55% तक न्यूनतम मार्क्स प्राप्त करना अनिवार्य होता है।
  • बैचलर ऑफ आर्ट्स या फिर किसी अन्य बैचलर कोर्स के साथ बीएड कोर्स करने के लिए राज्य स्तर की एंट्रेंस एग्जाम देनी होती है और उसके बाद संबंधित विभाग के द्वारा कॉलेजों में चयनित किया जाता है।
  • यह कोर्स उस फील्ड में आसानी से किया जा सकता है जिससे आपने पिछली पढ़ाई की है। उदाहरण के तौर पर अगर आपने आर्ट्स के साथ पढ़ाई की है तो आप आर्ट्स के विषयों के साथ बैचलर ऑफ एजुकेशन का कोर्स कर सकते हो।
  • इसके अलावा कॉलेज या फिर यूनिवर्सिटी के स्तर पर भी योग्यताए व पात्रता निर्धारित की जा सकती है।

बैचलर ऑफ एजुकेशन का कोर्स कैसे करें? (B.Ed Course Kaise Kare – B.Ed Course Full Details in Hindi)

आगरा बैचलर ऑफ एजुकेशन का कोर्स करना चाहते हो तो उसके लिए आपको सबसे पहले बारहवीं कक्षा बेहतरीन नंबरों से पास करनी होगी। अब आपको यह निर्धारित करना होगा कि आप परीक्षा के बाद तुरंत बैचलर ऑफ एजुकेशन अर्थात B.Ed का कोर्स करना चाहते हो या फिर बैचलर कोर्स करने के बाद इस कोर्स को करना चाहते हो। “B.Ed Course Details in Hindi”

अगर आप अपना एक साल बचाना चाहते हो तो आप एंट्रेंस एग्जाम के लिए फॉर्म भर सकते हो और एंट्रेंस एग्जाम में परफॉर्मेंस के अनुसार आपको बैचलर कोर्स के साथ बैचलर ऑफ एजुकेशन का कोर्स करने का मौका मिलेगा और इस तरह से 4 साल में ही आपके दोनों कोर्स पूरे हो जाएंगे। सभी राज्यों में इस कोर्स को करने के लिए एंट्रेंस एग्जाम ली जाती है। एंट्रेंस एग्जाम में अच्छे नम्बर प्राप्त करके आप आसानी से बैचलर ऑफ एजुकेशन का कोर्स कर सकते हो।

बैचलर ऑफ एजुकेशन का कोर्स करने में कितनी फीस लगती है?

अगर आप एंट्रेंस एग्जाम देकर बैचलर ऑफ एजुकेशन के कोर्स के लिए सरकारी यूनिवर्सिटी या फिर कॉलेज प्राप्त कर देते हो तो मात्र कुछ हजार रुपे में आपका पूरा कोर्स हो जाएगा। लेकिन अगर निजी कॉलेज और यूनिवर्सिटी ऑफ की बात की जाए तो इस कोर्स को करने के लिए आपको निजी कॉलेजों और यूनिवर्सिटी में अपने शिक्षण संस्थान के अनुसार पैसा देना पड़ता है यानी कि यहां पर आपको ₹20000 सालाना से लेकर ₹200000 सालाना तक पड़ सकती है। “B.Ed Course Details in Hindi”

बैचलर ऑफ एजुकेशन का कोर्स करने के बाद कितनी सैलरी मिलती है?

मुख्य रूप से बैचलर ऑफ एजुकेशन का कोर्स करवाने वाले कॉलेज किसी प्रकार की कोई रिक्रूटमेंट या प्लेसमेंट नहीं दिलवा दें लेकिन B.Ed का कोर्स करने के बाद निजी शिक्षण संस्थानों में काम किया जा सकता हैं और अच्छा पैसा कमाया जा सकता हैं। निजी शिक्षण संस्थानों B.Ed डिग्री होल्डर छात्रों को 20 हजार से 50 हजार तक कि मासिक सैलरी देते हैं। लेकिन अगर आप अपने करियर को अधिक से क्यों करना चाहते हो तो आप इस कोर्स को करने के बाद सरकारी नौकरी की तैयारी कर सकते हो यानी कि गवर्नमेंट टीचर की जॉब की प्रिपरेशन शुरू कर सकते हो। B.Ed होल्डर्स के लिए सरकार कई रिक्रूटमेंट्स निकालती हैं।

Best Sociology Courses in India – Full Details in Hindi

M.Ed Course Details in Hindi | फीस | सैलरी | योग्यता

टीचिंग कोर्सेज | Best Education Teaching Courses in India

CA Course After 12th Details in Hindi- सैलरी & फीस

BCA क्या है? Best BCA Course in Hindi? 2021

Leave a Comment